सोमवार, 10 दिसंबर 2018

muktak

मुक्तक सलिला:
नारी अबला हो या सबला, बला न उसको मानो रे
दो-दो मात्रा नर से भारी, नर से बेहतर जानो रे
जड़ हो बीज धरा निज रस से, सिंचन कर जीवन देती-
प्रगटे नारी से, नारी में हो विलीन तर-तारो रे
*
उषा दुपहरी संध्या रजनी जहाँ देखिए नारी है
शारद रमा शक्ति नारी ही नर नाहर पर भारी है
श्वास-आस मति-गति कविता की नारी ही चिंगारी हैं-
नर होता होता है लेकिन नारी तो अग्यारी है
*
नेकी-बदी रूप नारी के, धूप-छाँव भी नारी है                                                                                                                                     
गति-यति पगडंडी मंज़िल में नारी की छवि न्यारी है                                                                                                                            कृपा, क्षमा, ममता, करुणा, माया, काया या चैन बिना                                                                                                                      जननी, बहिना, सखी, भार्या, भौजी, बिटिया प्यारी है
*

कोई टिप्पणी नहीं: