शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

muktak

मुक्तक
मुझसे मेरे गीत न माँगो
प्रिय पहले सी प्रीत न माँगो
मन वीणा को झंकृत कर तुम
साँसों का संगीत न माँगो
*

कोई टिप्पणी नहीं: