शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

muktak

मुक्तक
मुक्त मन से लिखें मुक्तक
सुप्त को दें जगा मुक्तक
तप्त को शीतल करेंगे
लुप्त को लें बुला मुक्तक
*

कोई टिप्पणी नहीं: