स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 2 फ़रवरी 2017

muktak

मुक्तक
कभी अंकित, कभी टंकित, कभी शंकित रहे हैं
कभी वन्दित, कभी निन्दित, कभी चर्चित रहे हैं
नहीं चिंता किसी ने किस तरह देखा-दिखाया
कभी गुंजित, कभी हर्षित, कभी प्रमुदित रहे हैं
*  

कोई टिप्पणी नहीं: