स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 16 फ़रवरी 2017

muktika, upendra vajra

मुक्तिका
वार्णिक छंद उपेन्द्रवज्रा –
मापनी- १२१ २२१ १२१ २२
सूत्र- जगण तगण जगण दो गुरु
तुकांत गुरु, पदांत गुरु गुरु
*
पलाश आकाश तले खड़ा है
उदास-खो हास, नहीं झुका है

हजार वादे कर आप भूले
नहीं निभाए, जुमला कहा है

सियासती है मनुआ हमारा
चचा न भाए, कर में छुरा है

पड़ोस में ही पलते रहे हो
मिलो न साँपों, अब मारना है

तुम्हें दई सौं, अब तो बताओ
बसंत में कंत कहाँ छिपा है
*

कोई टिप्पणी नहीं: