मंगलवार, 2 फ़रवरी 2016

sher

द्विपदि (शेर)
*
हर हसीं हँसी न होगी दिलरुबा कभी
दिल पंजीरी नहीं जो हर को आप बाँट दें

*

कोई टिप्पणी नहीं: