शुक्रवार, 17 मई 2019

कार्यशाला कुण्डलिया

कार्यशाला
कुण्डलिया
दोहा- आभा सक्सेना
रदीफ़ क़ाफ़िया ढूंढ लो, मन माफ़िक़ सरकार|
ग़ज़ल बने चुटकी बजा, हों सुंदर अशआर||

रोला- संजीव वर्मा 'सलिल'
हों सुंदर अशआर, सजें ब्यूटीपार्लर में।
मोबाइल सम बसें, प्राण लाइक-चार्जर में
दिखें हैंडसम खूब, सुना सुन भगे माफिया
जुमलों की बरसात, करेगा रदीफ-काफिया

कोई टिप्पणी नहीं: