शुक्रवार, 17 मई 2019

मुक्तक

मुक्तक 
जीवन-पथ पर हाथ-हाथ में लिए चलें। 
ऊँच-नीच में साथ-साथ में दिए चलें।।
रमा-रमेश बने एक-दूजे की खातिर-
जीवन-अमृत घूँट-घूँट हँस पिए चलें।।

कोई टिप्पणी नहीं: