शुक्रवार, 17 मई 2019

दोहा

एक दोहा 
होता रूप अरूप जब, आत्म बने विश्वात्म.
कर शब्दाक्षर वन्दना, देख सकें परमात्म..
*

कोई टिप्पणी नहीं: