शुक्रवार, 24 मई 2019

​मुक्तिका

​मुक्तिका ​:
*
अंधे देख रहे हैं, गूंगे बोल रहे 
पोल​ उजालों की अँधियारे खोल रहे 
*
लोभतंत्र की जय-जयकार करेगा जो
निष्ठाओं का उसके निकट न मोल रहे
*
बाँध बनाती है संसद संयम के जो
नहीं देखती छिपे नींव में होल रहे ​
​*
हैं विपक्ष जो धरती को चौकोर कहें
सत्ता दल कह रहा अगर भू गोल रहे
*
कौन सियासत में नियमों की बात करे?
कुछ भी कहिए, पर बातों में झोल रहे
*

२४.५.२०१७ 

कोई टिप्पणी नहीं: