रविवार, 5 मई 2019

दोहा मुक्तक

दोहा मुक्तक
लता-लता पर छा रहा, नव वासंती रंग। 
ताल ताल में दे रहीं, मछली सहित तरंग।। 
नेह-नर्मदा में नहा, भ्रमर-तितलियाँ मौन-
कली-फूल पी मस्त हैं, मानो मद की भंग।। 
५.५.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: