रविवार, 5 अक्तूबर 2014

neh deep

नेह दीप


नेह दीप, नेह शिखा, नेह है उजाला
नेह आस, नेह प्यास,साधना-शिवाला 

नेह  गेह, गाँव, राष्ट्र, विश्व, सृष्टि-समाज 
नेह कल था, नेह कल है, नेह ही है आज 

नेह अजर, नेह अमर, नेह है अनश्वर
नेह धरा, नेह गगन, नेह ही है ईश्वर 

नेह राग सँग विराग, योग-भोग, कर्म
नेह कलम, शब्द-अक्षर, नेह ही है धर्म

नेह बिंदु, नेह सिंधु, नेह आदि-अंत
नेह शून्य, नेह सत्य, अनादि-अनंत 

नेह आशा-निराशा है, नेह है पुरुषार्थ 
नेह चाह, नेह राह, स्वार्थ संग परमार्थ 

नेह लेन, नेह देन, नेह गीत मीत 
नेह प्रीत, नेह दीप, दिवाली पुनीत 

------------------------------