सोमवार, 29 सितंबर 2014

navgeet:

नवगीत:

अगली सदी
हमारी ही है
हम जवान हैं

सांप-सपेरों
संतों का
माउस सम्हालना
डेमोक्रेसी
डेमोग्राफी
संग डिमांड का
एक साथ मिल
सारी दुनिया को
पुकारना
मंगल गृह पर
दस्तक देना
शुभ विहान हैं

बहुत हुआ
कानून तंत्र
कानून घटायें
पालन करें
किताबों में
मत भीड़ लगायें
छोटे लोगों खातिर
थोड़े काम बड़े कर
जग को
समझा पायें
केवल यह
निदान है

नदी देश की 
रक्तवाहिनी
स्वच्छ करेंगे
शौचालय निर्माण
शक्ति की
लाज रखेंगे
क़र्ज़ चुकाना
हमें देश का
सदा याद रख
प्रभु को दिखला दें
मानव कर में
विधान है

*



कोई टिप्पणी नहीं: