बुधवार, 3 अप्रैल 2019

दोहा प्रश्नोत्तर

कार्य शाला :
दोहा प्रश्नोत्तर
*
सरोज सिंह परिहार 'सूरज' नागौद

नीर भरे नैना रहें, लिये दरस की प्यास।
प्यासे नैना जल भरे, अजब विरोधाभास।।
*
संजीव वर्मा 'सलिल'

स्नेह सलिल नैना लिए, करें दरस की प्यास।
नेह नर्मदा मिल बहे, नहीं विरोधाभास।।
***
३.४.२०१९

कोई टिप्पणी नहीं: