स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 3 जनवरी 2017

do pad

दो पद 
चंचल कान्हा, चपल राधिका, नाद-ताल सम, नाच नाचे 
रस-ली, जंग-जमुन सम लहर, संगम अद्भुत द्वैत तजे 
ब्रम्ह-जीव सम, हाँ-ना, ना हाँ, देखें सुर-नर वेणु बजे  
नूपुर पग, पग-नूपुर, छू म छन, वर अद्वैत न तनिक लजे
श्री वीरेंद्र सिद्धराज के नृत्य पर 
***
नाद-ताल में, ताल नाद में, रास लास में, लास रास में 
भाव-भूमि पर, भूमि भाव पर, हास पीर में, पीर हास में 
बिंदु सिंधु मिल रेखा वर्तुल, प्रीत-रीत मिल, मीत! गीत बन 
खिल महकेंगे, महक खिलेंगे, नव प्रभात में, नव उजास ले 
***

कोई टिप्पणी नहीं: