शुक्रवार, 27 जनवरी 2017

sapt matrik / laukik jatiya chhand

लौकिक जातीय सप्त मात्रिक छंद
१. पदांत यगण 
तज बहाना
मन लगाना
सफल होना
लक्ष्य पाना  
जो मिला है 
हँस लुटाना
मुस्कुराना
खिलखिलाना
२. पदांत मगण 
न भागेंगे 
न दौड़ेंगे 
करेंगे जो 
न छोड़ेंगे 
*
३. पदांत तगण
आओ मीत 
गाओ गीत 
नाता जोड़ 
पाओ प्रीत 
*
४. पदांत रगण
पाया यहाँ 
खोया यहाँ 
बोया सदा 
काटा यहाँ 
*
कर आरती
खुश भारती
सन्तान को
हँस तारती
*
५. पदांत जगण
भारत देश
हँसे हमेश
लेकर जन्म
तरे सुरेश
*
६. पदांत भगण
चपल चंचल
हिरन-बादल
दौड़ते सुन
ढोल-मादल
*
७. पदांत नगण

मीठे वचन
बोलो सजन
मूँदो न तुम
खोलो नयन
*
८. पदांत सगण
सुगती छंद
सच-सच कहो
मत चुप रहो
जो सच दिखे
निर्भय कहो
*

कोई टिप्पणी नहीं: