बुधवार, 11 जनवरी 2017

muktika

मुक्तिका
*
ज़िंदगी है बंदगी, मनुहार है.
बंदगी ही ज़िंदगी है, प्यार है.

सुबह-संझा देख अरुणिम आसमां
गीत गाए, प्रीत की झंकार है.

अचानक आँखें, उठीं, मिल, झुक गईं
अनकहे ही कह गयीं 'स्वीकार है'.
.
सांस सांसों में घुलीं, हमदम हुईं
महकता मन हुआ हरसिंगार है.
मौन तजकर मौन बरबस बोलता
नासमझ! इनकार ही इकरार है.
***

कोई टिप्पणी नहीं: