बुधवार, 25 जनवरी 2017

doha muktika

एक दोहा
हर दल ने दलदल मचा, साधा केवल स्वार्थ
हत्या कर जनतंत्र की, कहते- है परमार्थ
*
एक दोहा मुक्तिका
निर्मल मन देखे सदा, निर्मलता चहुँ ओर
घोर तिमिर से ज्यों उषा, लाये उजली भोर
*
नीरस-सरस न रस रहित, रखते रसिक अँजोर
दोहा-रस संबंध है, नद-जल, गागर-डोर
*
मृगनयनी पर सोहती, गाढ़ी कज्जल-कोर
कृष्णा एकाक्षी लगा, लगे अमावस घोर
*
चित्त चुराकर कह रहे, जो अकहे चितचोर
उनके चित का मिल सका, कहिये किसको छोर
*
आँख मिला मन मोहते, झुकती आँख हिलोर
आँख फिरा लें जान ही, आँख दिखा झकझोर
****

कोई टिप्पणी नहीं: