शनिवार, 13 जुलाई 2019

कुण्डलिया औकात

एक कुण्डलिया 
औकात 
अमिताभ बच्चन-कुमार विश्वास प्रसंग 
*
बच्चन जी से कर रहे, क्यों कुमार खिलवाड़?
अनाधिकार की चेष्टा, अच्छी पड़ी लताड़
अच्छी पड़ी लताड़, समझ औकात आ गयी?
क्षमायाचना कर न समझना बात भा गयी
रुपयों की भाषा न बोलते हैं सज्जन जी
बच्चे बन कर झुको, क्षमा कर दें बच्चन जी
***
-संजीव वर्मा 'सलिल'
salil.sanjiv@gmail.com
९४२५१८३२४४
#हिंदी_ब्लॉगिंग

कोई टिप्पणी नहीं: