मंगलवार, 23 जुलाई 2019

कार्यशाला

कार्यशाला
सुनीता शानू
वो मुझे इस तरह मनाता है
रूठ जाऊँ तो रूठ जाता है
संजीव सलिल 
मैं अगर झट न मान जाऊँ तो 
काँच जैसे वो टूट जाता है 

२.६.२०१६
***

कोई टिप्पणी नहीं: