रविवार, 10 सितंबर 2017

doha

दोहा सलिला-
तन मंजूषा ने तहीं, नाना भाव तरंग
मन-मंजूषा ने कहीं, कविता सहित उमंग 
*
आत्म दीप जब जल उठे, जन्म हुआ तब मान 
श्वास-स्वास हो अमिय-घट, आस-आस रस-खान
*
सत-शिव-सुंदर भाव भर, रचना करिये नित्य
सत-चित-आनन्द दरश दें, जीवन सरस अनित्य
*

कोई टिप्पणी नहीं: