स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 11 सितंबर 2017

mahadeviji

तेरा तुझको अर्पण...
११ सितम्बर २०१७, संस्कारधानी जबलपुर की नातिन महीयसी महादेवी जी की ३० वीं पुण्यतिथि
पुण्य स्मरण उन्हीं की रचनाओं से.







मैं नीर भरी दुख की बदली!

स्पन्दन में चिर निस्पन्द बसा
क्रन्दन में आहत विश्व हँसा
नयनों में दीपक से जलते,
पलकों में निर्झारिणी मचली!
मेरा पग-पग संगीत भरा
श्वासों से स्वप्न-पराग झरा
नभ के नव रंग बुनते दुकूल
छाया में मलय-बयार पली।
मैं क्षितिज-भृकुटि पर घिर धूमिल
चिन्ता का भार बनी अविरल
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,
नव जीवन-अंकुर बन निकली!
पथ को न मलिन करता आना
पथ-चिह्न न दे जाता जाना;
सुधि मेरे आगन की जग में
सुख की सिहरन हो अन्त खिली!
विस्तृत नभ का कोई कोना
मेरा न कभी अपना होना,
परिचय इतना, इतिहास यही-
उमड़ी कल थी, मिट आज चली!
***

salil.sanjiv@gmail.com, 9425183244
http://divyanarmada.blogspot.com
#हिंदी_ब्लॉगर 

कोई टिप्पणी नहीं: