सोमवार, 18 सितंबर 2017

yamak alankaar

:अलंकार चर्चा ०९ :
यमक अलंकार
भिन्न अर्थ में शब्द की, हों आवृत्ति अनेक 
अलंकार है यमक यह, कहते सुधि सविवेक

पंक्तियों में एक शब्द की एकाधिक आवृत्ति अलग-अलग अर्थों में होने पर यमक अलंकार होता है. यमक अलंकार के अनेक प्रकार होते हैं.
अ. दुहराये गये शब्द के पूर्ण-आधार पर यमक अलंकार के ३ प्रकार १. अभंगपद, २. सभंगपद ३. खंडपद हैं.
आ. दुहराये गये शब्द या शब्दांश के सार्थक या निरर्थक होने के आधार पर यमक अलंकार के ४ भेद १.सार्थक-सार्थक, २. सार्थक-निरर्थक, ३.निरर्थक-सार्थक तथा ४.निरर्थक-निरर्थक होते हैं.
इ. दुहराये गये शब्दों की संख्या व् अर्थ के आधार पर भी वर्गीकरण किया जा सकता है.
उदाहरण :
१. झलके पद बनजात से, झलके पद बनजात 
अहह दई जलजात से, नैननि सें जल जात -राम सहाय 
प्रथम पंक्ति में 'झलके' के दो अर्थ 'दिखना' और 'छाला' तथा 'बनजात' के दो अर्थ 'पुष्प' तथा 'वन गमन' हैं. यहाँ अभंगपद, सार्थक-सार्थक यमक अलंकार है. 
द्वितीय पंक्ति में 'जलजात' के दो अर्थ 'कमल-पुष्प' और 'अश्रु- पात' हैं. यहाँ सभंग पद, सार्थक-सार्थक यमक अलंकार है.

२. कनक कनक ते सौ गुनी, मादकता अधिकाय 
या खाये बौराय नर, वा पाये बौराय 
कनक = धतूरा, सोना -अभंगपद, सार्थक-सार्थक यमक

३. या मुरली मुरलीधर की, अधरान धरी अधरा न धरैहौं 
मुरली = बाँसुरी, मुरलीधर = कृष्ण, मुरली की आवृत्ति -खंडपद, सार्थक-सार्थक यमक 
अधरान = अधरों पर, अधरा न = अधर में नहीं - सभंगपद, सार्थक-सार्थक यमक

४. मूरति मधुर मनोहर देखी 
भयेउ विदेह विदेह विसेखी -अभंगपद, सार्थक-सार्थक यमक, तुलसीदास 
विदेह = राजा जनक, देह की सुधि भूला हुआ.

५. कुमोदिनी मानस-मोदिनी कहीं 
यहाँ 'मोदिनी' का यमक है. पहला मोदिनी 'कुमोदिनी' शब्द का अंश है, दूसरा स्वतंत्र शब्द (अर्थ प्रसन्नता देने वाली) है.

६. विदारता था तरु कोविदार को 
यमक हेतु प्रयुक्त 'विदार' शब्दांश आप में अर्थहीन है किन्तु पहले 'विदारता' तथा बाद में 'कोविदार' प्रयुक्त हुआ है.

७. आयो सखी! सावन, विरह सरसावन, लग्यो है बरसावन चहुँ ओर से 
पहली बार 'सावन' स्वतंत्र तथा दूसरी और तीसरी बार शब्दांश है.

८. फिर तुम तम में मैं प्रियतम में हो जावें द्रुत अंतर्ध्यान 
'तम' पहली बार स्वतंत्र, दूसरी बार शब्दांश.

९. यों परदे की इज्जत परदेशी के हाथ बिकानी थी 
'परदे' पहली बार स्वतंत्र, दूसरी बार शब्दांश.

१०. घटना घटना ठीक है, अघट न घटना ठीक 
घट-घट चकित लख, घट-जुड़ जाना लीक

११. वाम मार्ग अपना रहे, जो उनसे विधि वाम 
वाम हस्त पर वाम दल, 'सलिल' वाम परिणाम 
वाम = तांत्रिक पंथ, विपरीत, बाँया हाथ, साम्यवादी, उल्टा

१२. नाग चढ़ा जब नाग पर, नाग उठा फुँफकार 
नाग नाग को नागता, नाग न मारे हार 
नाग = हाथी, पर्वत, सर्प, बादल, पर्वत, लाँघता, जनजाति 
जबलपुर, १८-९-२०१५ 
========================================

कोई टिप्पणी नहीं: