रविवार, 17 सितंबर 2017

भाषा वैभव : भोजपुरी
आलंकारिकता और अर्थ वैचित्र्य 
*
के मारी? = कौन मारेगा?
केके मारी? = किसको मारूं?
के केके मारी? = कौन किसको मारेगा?
केके केके मारी? = किसको-किसको मारूँ?
के केके केके मारी? = कौन किसको-किसको मारेगा?
केके केके के के मारी? = किसको-किसको कौन-कौन मारेगा?
***
अर्थ बूझिये
के कै मारी?, के को मारी, के समझी?, के का समझी?, के के समझी?, का का समझी? के के का का समझी?, के का के का समझी?
अन्य भाषाओँ के वैभव से परिचित कराइए. 
***
salilsanjiv@gmail.com, ९४२५१८३२४४
http://divyanarmada.blogspot.com  
#हिंदी_ब्लॉगर 

कोई टिप्पणी नहीं: