बुधवार, 13 सितंबर 2017

kshanika

क्षणिका 
*
मैं 
न खुद को जान पाया
आज तक। 
अजाना भी हूँ नहीं
मैं
सत्य कहता।
***

कोई टिप्पणी नहीं: