मंगलवार, 31 मई 2016

समीक्षा

पुस्तक सलिला- 
'हिंदी साहित्य का काव्यात्मक इतिहास' एक साहसिक प्रयोग 
                                                            -आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
[कृति विवरण- हिंदी साहित्य का काव्यात्मक इतिहास, रजनी सिंह, काव्य संग्रह, प्रथम संस्करण २०१५, आकार २१.५ से.मी. x १४ से.मी., सजिल्द, बहुरंगी, आंशिक लेमिनेटेड आवरण, जैकेट सहित, पृष्ठ १२८, मूल्य २५०/-, रजनी प्रकाशन, रजनी विल, डिबाई २०३३९३, दूरभाष ०५७३४ २६५१०१, कवयित्री संपर्क: चलभाष ९४१२६५३९८०, rajnisingh2009@yahoo.com]
*
भाषा साहित्य की ही, नहीं सभ्यता और संस्कृति की भी वाहिका होती है। किसी भाषा का इतिहास उस भाषा को बोलने-लिखने-पढ़नेवालों की जीवन शैली, जीवन मूल्यों और गतागत का परिचायक होता है।  

विश्व वाणी हिंदी का प्रथम सर्वमान्य प्रामाणिक इतिहास लिखने का श्रेय स्वनामधन्य डॉ. रामचन्द्र शुक्ल को है। कालांतर में कुछ और प्रयास किये गये किन्तु कोेेई भी पूर्वापेक्षा अधिक लम्बी लकीर नहीं खींच सका। 

इतिहास लिखना अपने आपमें जटिल होता है।  अतीत में जाकर सत्य की तलाश, संशय होने पर स्वप्रेरणा से सत्य का निर्धारण विवाद और संशय को जन्म देता है। साहित्य एक ऐसा क्षेत्र है जो रचे जाते समय और रचे जाने के बाद कभी न कभी, कहीं न कहीं, कम या अधिक चर्चा में आता है किन्तु साहित्यकार प्रायः उपेक्षित, अनचीन्हा ही रह जाता है। शुक्ल जी ने साहित्य और साहित्य्कार दोनों को समुचित महत्त्व देते हुए जो कार्य किया, वह अपनी मिसाल आप हो गया।  

हिंदी भाषा और साहित्य से सुपरिचित रजनी सिंह जी ने विवेच्य कृति का आधार शुक्ल जी रचित कृति को ही बनाया है।  इतिहास शुष्क और नीरस होता है, साहित्य सरस और मधुर। इन दो किनारों के बीच रचनात्मकता की सलिल-धार प्रवाहित करने की चुनौती को काव्य के माध्यम से सफलतापूर्वक स्वीकार किया औेर जीता है कवयित्री ने। 

उच्छ्वास के आलोक में, नमन करूँ शत बार, आदिकाल, वीरगतः काल, पूर्व मध्य (भक्ति) काल, उत्तर मध्य (रीति) काल, आधुनिक काल (गद्य साहित्य का प्रवर्तन, उत्थान, प्रसार, वर्तमान गति), छायावाद तथा उत्तर छायावाद शीर्षकों के अंतर्गत साहित्यिक कृतियों तथा कृतिकारों पर काव्य-पंक्तियाँ रचकर कवयित्री ने एक साहसिक और अभिनव प्रयोग किया है।  डॉ. कुमुद शर्मा ने ठीक ही लिखा है 'हिंदी के विषयनिष्ठ ज्ञान की जगह वस्तुपरक ज्ञान पर आधारित रजनी सिंह की यह पुस्तक हिंदी साहित्य  बहुविध छवियों की झाँकी प्रस्तुत करती है।' मेरे मत में यह झाँकी बाँकी भी है। 

सामान्यतः साहित्यकार का समुचित मूल्यांकन उसके जीवन काल में नहीं होने की धारणा इस कृति में डॉ. अरुण नाथ शर्मा 'अरुण', डॉ. कुमुद शर्मा  को अर्पित काव्य पंक्तियों को देखकर खंडित होती है।  आलोच्य कृति के पूर्व विविध विधाओं में १८ पुस्तकें प्रकाशित हो चुकने से रजनी जी की सृजन सामर्थ्य असंदिग्ध प्रमाणित होती है। परम्परानुसार कृति का श्री गणेश सरस्वती स्तुति से किये जाने के पश्चात हिंदी वंदन तथा आचार्य रामचन्द्र शुक्ल को प्रणति निवेदन सर्वथा उचित तथा मौलिक सूझ है।  इसी तरह विश्व विख्यात दर्शनशास्त्री ओशो को साहित्यिक अवदान हेतु सम्मिलित किया जाना भी नयी सोच है।  

किसी भी कृति में उपलब्ध पृष्ठ संख्या के अंतर्गत ही विषय और कथ्य को समेटना होता है. यह विषय इतना विस्तृत है कि मात्र १२८ पृष्ठों में हर आयाम को स्पर्श भी नहीं किया जा सकता तथापि कृतिकार ने अपनी दृष्टि से साहित्यकारों का चयन कर उन्हें काव्यांजलि अर्पित की।  शिल्प पर कथ्य को वरीयता देती काव्य पंक्तियाँ गागर में सागर की तरह सारगर्भित हैं।  
----------------
समन्वयम, २०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१ salil.sanjiv@gmail.com, ९४२५१८३२४४

कोई टिप्पणी नहीं: