स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 7 जनवरी 2013

 

राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद
(कायस्थ सभाओं / संस्थाओं / मंदिरों / धर्मशालाओं / शिक्षा संस्थाओं / पत्र पत्रिकाओं का परिसंघ )
: कार्यालय :
राष्ट्रीय अध्यक्ष: जे. ऍफ़. १/७१, ब्लोक ६, मार्ग १० राजेन्द्र नगर पटना ८०००१६ बिहार
वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष: २०४ , विजय अपार्टमेन्ट, नेपियर टाउन, जबलपुर, ४८२००१ मध्य प्रदेश
महामंत्री: २०९-२१० आयकर कॉलोनी, विनायकपुर, कानपुर २०८०२५ उत्तर प्रदेश
____________________________________________________________
क्रमांक: 055  / राकाम / वराउ / 2012                                                      जबलपुर, दिनाँक: 07-01-2013
प्रतिष्ठार्थ:
माननीय मुख्य मंत्री 
मध्य प्रदेश शासन भोपाल। (pstocmbpl@gmail.com)

विषय: श्री अनंत श्रीवास्तव, निवासी तुलसी नगर भोपाल पर श्री संभव कबीरपंथी द्वारा जानलेवा हमला। 
मान्यवर,
         वन्दे मातरम। 
                 सादर निवेदन है कि आपके कुशल नेतृत्व में मध्य प्रदेश प्रगति, सामाजिक समरसता तथा शांति-व्यवस्था की दिशा में सतत आगे बढ़ रहा है किन्तु आपराधिक मानसिकता के कुछ तत्व कानून-व्यवस्था को हाथ में लेकर अशांति पैदा करने से बाज नहीं आते। ऐसा ही एक प्रकरण गत 5 जनवरी को तुलसी नगर भोपाल में घटित हुआ जब श्री अनंत श्रीवास्तव पर श्री संभव कबीरपंथी तथा श्री टोनी कबीरपंथी द्वारा रिवोल्वर से हमला किया गया। बीच बचाव करने आये दोस्त को भी बख्शा नहीं गया और उस पर भी बट से आघात किया गया। यह समाचार दैनिक भास्कर जबलपुर दिनांक 07-01-2013 के पृष्ठ 9 पर प्रकाशित है। 

                 विशेष चिंता का विषय यह है कि हमलावर दतिया कलेक्टर श्री जी. पी.कबीरपंथी के पुत्र हैं। वर्तमान प्रशासन व्यवस्था में कलेक्टर समूचे ढांचे का कंद्र बिंदु है। किसी कलेक्टर के पुत्र से आम नागरिक से अधिक विवेकपूर्ण तथा संयमित होने की अपेक्षा होती हैक्योंकि वह शैशव से पिता को कानून-व्यवस्था करते हुए देखता है। खेद है कि इस प्रकरण में पिता के शक्ति संपन्न होने के मद में बेटों द्वारा कानून-व्यवस्था को हाथ में लेकर आपराधिक आचरण कर दहशत फ़ैलाने का कार्य किया गया है।  उच्च पदस्थ अधिकारी का पुत्र कानून से ऊपर नहीं हो सकता।

                 अतः, आपसे सादर निवेदन है कि प्रकरण में पूर्ण पारदर्शिता से जांच की जाकर अपराधियों के विरुद्ध समुचित कार्यवाही तत्काल की जाए ताकि उच्छ्रिन्खलता और कानून को हाथ में लेने की मनोवृत्ति पर अंकुश लगे। समाज को यह सन्देश मिलना जरूरी है की पिता के उच्च पद पर होने से गलत काम करने पर सजा से छूट नहीं पाई जा सकती। आशा है आपकी ओर से अस्मुचित त्वरित कार्यवाही की सूचना प्राप्त होगी। 

                  देश तथा प्रदेश पर अपने कुशल नेतृत्व की छाप छोड़ने के साथ अपने नागरिकों के मन में शीघ्र न्याय प्राप्ति की आशा भी जगाई है। देश का बुद्धिजीवी शांतिप्रिय कायस्थ समाज आपके साथ है तथा आपसे न्यायप्राप्ति की आशा करता है। 

                                                                                                                         शुभाकांक्षी 

                                                                                                                संजीव वर्मा 'सलिल'   
                                                                                                              वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष  
                                                                                                          राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद  
प्रतिलिपि:
1. श्री त्रिलोकी प्रसाद वर्मा, राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद, मुजफ्फरपुर 
2. डॉ. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव, प्रधान महामंत्री, राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद, कानपुर   
3. श्री अशोक श्रीवास्तव, संयोजक, विश्व कायस्थ परिषद्, नयी दिल्ली 
4. श्री कैलाश नारायण सारंग, अध्यक्ष अखिल भारतीय कायस्थ महासभा भोपाल 
5. कलेक्टर, भोपाल  (dmbhopal@mp.nic.in)
6. पुलिस आयुक्त भोपाल 
                  को त्वरित कार्यवाही हेतु। कृपया, की गयी कार्यवाही से अवगत करने हेतु अनुरोध है।

                                                                                                                संजीव वर्मा 'सलिल'   
                                                                                                              वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष  
                                                                                                          राष्ट्रीय कायस्थ महापरिषद

 

कोई टिप्पणी नहीं: