शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

लघु कथा: खुशामद भारतेंदु हरिश्चन्द्र

लघु कथा:
खुशामद






भारतेंदु हरिश्चन्द्र
*
एक नामुराद आशिक से किसी ने पूछा, 'कहो जी, तुम्हारी माशूका तुम्हें क्यों नहीं मिली।'

बेचारा उदास होकर बोला, 'यार कुछ न पूछो! मैंने इतनी खुशामद की कि उसने अपने को सचमुच ही परी समझ लिया और हम आदमियों से बोलने में भी परहेज किया।'

*****

कोई टिप्पणी नहीं: