शनिवार, 5 जनवरी 2019

muktak, muktika

मुक्तिका 
*
नेह नर्मदा बहने दे 
मन को मन की कहने दे 
*
बिखरे गए रिश्ते-नाते
फ़िक्र न कर चुप तहने दे
*
अधिक जोड़ना क्यों नाहक
पीर पुरानी सहने दे
*
देह सजाते उम्र कटी
'सलिल' रूह को गहने दे
*
काला धन जिसने जोड़ा
उसको थोड़ा दहने दे
*

मुक्तक-
बिखर जाओ फिजाओं में चमन को आज महाकाओ
​बजा वीणा निगम-आगम ​कहें जो सत्य वह गाओ
​अनिल चेतन​ हुआ कैलाश पर ​श्री वास्तव में पा
बनो​ हीरो, तजो कटुता, मधुर मन मंजु ​हो जाओ
*

कोई टिप्पणी नहीं: