बुधवार, 30 जनवरी 2019

ककुभ छंद

तीस मात्रिक तैथिक जातीय ककुभ छंद
*
सोलह-चौदह पर यति रखकर, अंत रखें गुरु दो-दो।
ककुभ छंद रच आनंदित हों, छंद फसल कवि बोदो।।



कोई टिप्पणी नहीं: