बुधवार, 23 जनवरी 2019

मुक्तिका: रात

मुक्तिका:
रात
संजीव
( तैथिक जातीय पुनीत छंद ४-४-४-३, चरणान्त sssl)

चुपके-चुपके आयी रात
सुबह-शाम को भायी रात
झरना नदिया लहरें धार
घाट किनारे काई रात
शरतचंद्र की पूनो है
'मावस की परछाईं रात
आसमान की कंठ लंगोट
चाहे कह लो टाई रात                                                                                                                                                                    पर्वत जंगल धरती तंग                                                                                                                                                                      कोहरा-पाला लाई रात
वर चंदा तारे बारात
हँस करती कुडमाई रात
दिन है हल्ला-गुल्ला-शोर
गुमसुम चुप तनहाई रात

कोई टिप्पणी नहीं: