बुधवार, 16 जनवरी 2019

tripadika muktika

त्रिपदिक मुक्तिका 
*
निर्झर कलकल बहता 
किलकिल न करो मानव 
कहता, न तनिक सुनता। 
*
नाहक ही सिर धुनता
सच बात न कह मानव
मिथ्या सपने बुनता।
*
जो सुन नहीं माना
सच कल ने बतलाया
जो आज नहीं गुनता।
*
जिसकी जैसी क्षमता
वह लूट खा रहा है
कह कैसे हो समता?
*
बढ़ता न कभी कमता
बिन मिल मिल रहा है
माँ का दुलार-ममता।
***
संजीव, ७९९९५५९६१८
२-१२-२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: