स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 8 जून 2017

smruti geet

प्रख्यात भूविद डॉ. एस.एस. श्रीवास्तव लखनऊ दिवंगत
गत २ जून २०१७ को प्रख्यात भूविद डॉ. एस. एस. श्रीवास्तव का लम्बी - जटिल बीमारी के पश्चात् देहावसान हो गया. सहधर्मिणी श्रीमती सुमन श्रीवास्तव (कवयित्री-लघुकथाकार) ने जिस समर्पण, कुशलता, धैर्य, निष्ठा तथा निरंतरतापूर्वक अपने जीवनसाथ की श्वासें बचाने के लिए काल से लोहा लिया वह असाधारण है। डॉ. श्रीवास्तव के अल्प सानिंध्य में उनकी जिजीविषा, जीवट और मानवीयता के जिन पहलुओं से परिचित हो सका वह प्रणम्य है। माननीय सुमन जी, स्वजनों-परिजनों के शोक में सहभागी होते हुए दिवंगत महाप्राण की स्मृतियों को नतशिर नमन.
विश्व वाणी हिंदी भाषा-साहित्य संस्थान डॉ. एस. एस. श्रीवास्तव के परलोक प्रस्थान जनित पीड़ा के क्षणों में आत्मीय सुमन जी, पुत्र डॉ. सुधांशु तथा स्वजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता है। दिवंगत की पुण्य स्मृति में शान्ति पाठ तथा हवन ९ जून २०१७ को प्रात: ९ बजे श्रीवास्तव निवास बी. जी. २, विंकन होम्स, ६ फान ब्रेक अवेन्यु, सरोजिनी नायडू मार्ग लखनऊ में है।
***
स्मृति गीत-
दादा नहीं रहे...
*
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
*
दुर्बल तन
मन वज्र सरीखा।
तेज आत्म का
मुख पर देखा।
तन दधीचि सा
मुस्काते लब-
कितना कुछ
कह डाला पल में
लेकिन बिना कहे
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
*
भूविद थे
उदार धरती सम।
सु-मन मना
अँखियाँ चमकीं नम।
सुमन-सुवासित
श्वास-श्वास तव,
अस्फुट ध्वनियों के
वर्तुल बुन
किस्से अगिन कहे?
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
*
यादें मन में
अमिट-अमर शत।
फिर-फिर जीवित
होता है गत।
भीष्म पितामह
शर-शैया पर.
अविचल लेटे
मन ही मन में
नव संकल्प तहे
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
*
अब भी जगत
वही-वैसा है।
किन्तु न कुछ
पहले जैसा है।
सुमन-भाल का
सूर्य ग्रहण से
अस्त हुआ न दहे.
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
*
अक्षय निधि है
कर्म विरासत।
हम सब गहें
न तजें सिया-सत।
दर्द सुमन-मन का
सहभागी हो मन
मौन तहे.
कैसे हो विश्वास
हमारे दादा नहीं रहे?
****

कोई टिप्पणी नहीं: