स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 30 जून 2017

muktak

मुक्तक:
फसल हो मोगरा चंपा चमेली जुही केसर की
फसल रौंदे न कोई उठी हो तलवार नाहर की
अहिंसा-शांति का आशय न कायरता हुआ करता
चढ़ा सर शत्रु के कदमों पे भारत माँ की प्रेयर की
*
फसल हो समझदारी, भाईचारे, स्नेह, साहस की
फसल हो गौतमी परित्याग, सुजाता के पायस की
फसल हो स्वच्छता, मेहनत, नए निर्माण की निश-दिन
फसल संघर्ष की अरि दल को भूनें गोलियाँ अनगिन
***

कोई टिप्पणी नहीं: