गुरुवार, 3 अक्तूबर 2019

सरस्वती वंदना - पंजाबी, सिंधी

वीणा विज'उदित'

















 
जन्म - ३ दिसम्बर १९४३, लाहौर, पाकिस्तान। 
आत्मजा - श्रीमती कमला रानी मैनी - श्री किशनलाल मैनी।  
जीवन साथी - श्री रविन्द्र कुमार विज।  
शिक्षा- एम.ए., एम.एड. (स्वर्ण पदक)। 
संप्रति - दूरदर्शन अभिनेत्री, कवियत्री व साहित्यकार।  
प्रकाशन - काव्य संग्रह : सन्नाटों के पहरेदार, कदम ज़िंदगी के, दरीचों से झांकती धूप, कथा संग्रह पिघलती शिला (पुरस्कृत),
तुरपाई एवम् अन्य कहानियाँ, सुरमई कहानियां (उर्दू में)
संपर्क - श्रीमती वीणा विज, ४६९ आर मॉडल टाउन, जलंधर १४४००३ पंजाब। 
चलभाष - ९६८२६३९६३१। ईमेल - vij.veena@gmail.com । 
*
पंजाबी
अम्बे विद्या, देणी  दयानी
 
ॐ मां सरस्वती, मां शारदा 
अम्बे विद्या, देणी  दयानी
जग दी जननी, चिंता हरनी 
मां सरस्वती, मां शारदा...
ॐ मां सरस्वती मां शारदा

हथ तुहाडे वीणा सजदी 
पद्मासन ला कमल च बैठी 
ॐ मां सरस्वती, मां शारदा ..

देंवीं मैंनूं ज्ञान, बुद्धि दात
चिट्टे-चिट्टे वस्तरां वाली
ॐ मां सरस्वती, मां शारदा म...

चरना च रखीं बंदी अपणी 
मेहर करीं ,किते भटक न जांवां
मां सरस्वती मां शारदा... 
*
सिंधी 
सरस्वती माता कयू था अर्चना 

सरस्वती माता कयू था अर्चना 
हम बंधी तुहिंजी कयू था वंदना 

प्यार दे एको सदा सब में रहे 
दे सुमती जिह ज्ञान जो दीपक बरे 
तुह जी हरदम करू था प्रार्थना 

कलम सा नगमा त्वा नित-नित रचू 
चाहना चित में सदा एड़ी रखू 
सब जे मन में भर इह सद्भावना 

भाव भाषा में सदा रहड़ा भरू 
जजब कोए जागे इह कोशिश करू 
शल किदिंए सब जी पूरी कामना 









कोई टिप्पणी नहीं: