स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 7 मार्च 2013

बाल कविता - दादा जी की छींक संतोष कुमार

बाल कविता -
दादा जी की छींक
सन्तोष कुमार सिंह
           *
          दादा जी ने मारी उस दिन,
बड़ी जोर की छींक।
चिन्टू, पिन्टू और बबली की,
निकल गई थी चीख।।
 
बिल्ली के पंजों में जकड़ा,
चूहा भी झट छूटा।
दादी काँपी उनके सिर से,
घट भी गिर कर फूटा।।
 
पगहा तोड़ भगा खूँटे से,
बँधा हुआ जो घोड़ा।
पिल्लों ने भी डर कर देखो,
पान दुग्ध का छोड़ा।।
 
घर के सब सामान अचानक,
आपस में टकराये।
पर दादा निश्चिन्त बैठकर,
हुक्का पीते पाये।।
॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰
 <ksantosh_45@yahoo.co.in> Web:http://bikhreswar.blogspot.com/