शनिवार, 2 मार्च 2013

मुक्तिका: रूह से... संजीव 'सलिल'

मुक्तिका:
रूह से...
संजीव 'सलिल'
*
रूह से रू-ब-रू अगर होते.
इस तरह टूटते न घर होते..

आइना देखकर खुशी होती.
हौसले गर जवां निडर होते..

आसमां झुक सलाम भी करता.
हौसलों को मिले जो पर होते..

बात बोले बिना सुनी जाती.
दिल से निकले हुए जो स्वर होते..

होते इंसान जो 'सलिल' सच्चे.
आह में भी लिए असर होते..
*

कोई टिप्पणी नहीं: