स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

रविवार, 3 मार्च 2013

नवगीत: गाए राग वसंत ओमप्रकाश तिवारी


नवगीत:

गाए राग वसंत

ओमप्रकाश तिवारी  

चेहरा पीला आटा गीला
मुँह लटकाए कंत,
कैसे भूखे पेट ही गोरी
गाए राग वसंत ।

मंदी का है दौर
नौकरी अंतिम साँस गिने
जाने कब तक रहे हाथ में
कब बेबात छिने ;

सुबह दिखें खुश, रूठ न जाएं
शाम तलक श्रीमंत ।

चीनी साठ दाल है सत्तर
चावल चढ़ा बाँस के उप्पर
वोट माँगने सब आए थे
अब दिखता न कोई पुछत्तर;

चने हुए अब तो लोहे के
काम करें ना दंत ।

नेता अफसर और बिचौले
यही तीन हैं सबसे तगड़े
इनसे बचे-खुचे खा जाते
भारत में भाषा के झगड़े ;

साठ बरस के लोकतंत्र का
चलो सहें सब दंड ।

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

निम्न पंक्तियों में ही देश के हालात का सटीक वर्णन है...

साठ बरस के लोकतंत्र का
चलो सहें सब दंड ।

अच्छी रचना, शुभकामनाएँ.

बेनामी ने कहा…

सुन्दर चित्र खीन्चा है तिवारी जी ने इस वासन्ती कविता में । साठ बरस के लोक तंत्र में मंहगाई के सिवा और कोई उपलब्धि तो नज़र आती नही ।
कमल