बुधवार, 17 जुलाई 2019

कार्यशाला: बीनू भटनागर

कार्यशाला:
बीनू भटनागर 
राहुल मोदी भिड़ रहे, बीच केजरीवाल,
सत्ता के झगड़े यहाँ,दिल्ली बनी मिसाल।
संजीव
दिल्ली बनी मिसाल, अफसरी हठधर्मी की
हाय! सियासत भी मिसाल है बेशर्मी की 
लोकतंत्र की कब्र, सभी ने मिलकर खोदी 
जनता जग दफना दे, कजरी राहुल मोदी
*** 
कार्यशाला: 
बीनू भटनागर 
रोज मैं इस भँवर से दो- चार होती हूँ
क्यों नहीं मैं इस नदी से पार होती हूँ ।

संजीव 
लाख रोके राह मेरी, है मुझे प्यारी
इसलिए हँस इसी पर सवार होती हूँ ।
*

कोई टिप्पणी नहीं: