स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

रविवार, 14 मई 2017

muktak

मुक्तक

माँ तो माँ ही होती है
सपने बच्चों में बोती है
जाकर भी कब जा पाती है?
खो जाती मगर न खोती है.
*
इश्क क्यों हुस्न से हुआ करता?
इश्क को रश्क क्यों हुआ करता?
इश्क की मुश्क जरूरी क्यों है?
इश्क क्यों इश्क की दुआ करता?
१४-५-२०१७
*
मुक्तक सलिला :
संजीव
.
हमसे छिपते भी नहीं, सामने आते भी नहीं 
दूर जाते भी नहीं, पास बुलाते भी नहीं 
इन हसीनों के फरेबों से खुदा भी हारा-
गले लगते भी नहीं और लगाते भी नहीं
*
पीठ फेरेंगे मगर मुड़ के फिर निहारेंगे
फेर नजरें यें हसीं दिल पे दिल को वारेंगे
जीत लेने को किला दिल का हौसला देखो-
ये न हिचकेंगे 'सलिल' तुमपे दिल भी हारेंगे
*
उड़ती जुल्फों में गिरफ्तार कभी मत होना
बहकी अलकों को पुरस्कार कभी मत होना
थाह पाओगे नहीं अश्क की गहराई की-
हुस्न कातिल है, गुनाहगार कभी मत होना
*
१४-५-२०१५

कोई टिप्पणी नहीं: