स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 9 मई 2017

विचारणीय : अगर न होता काश तो.......
संजीव 'सलिल'
काश न होता सलिल' तो, ना होता अवकाश.
कहिये कैसे देखते हम, सिर पर आकाश?.
रवि शशि दीपक बल्ब भी, हो जाते बेकार-
गहन तिमिर में किस तरह, मिलता कहें प्रकाश?.
धरना देता अतिथि जब, अनचाहा चढ़ शीश.
मन ही मन कर जोड़कर, कहते अब जा काश..
*
९-५-२०१०

कोई टिप्पणी नहीं: