शुक्रवार, 14 दिसंबर 2012

नवगीत: ओमप्रकाश तिवारी कुम्हड़ा-लौकी नहीं चढ़ रहे

नवगीत:
ओमप्रकाश तिवारी
 

कुम्हड़ा-लौकी नहीं चढ़ रहे

कुम्हड़ा-लौकी
अब छप्पर पे
नहीं चढ़ रहे गांव में

रोज चढ़ रहीं दारू मैया
गुटका-गांजा-सुरती भैया
चौराहे पर चाय केतली
कभी भांग की ता-ता थैया


प्रगति कर रही
है नव पीढ़ी
बेड़ी बांधे पांव में


चढ़ी बांस पे ताश की गड्डी
भूले खो-खो और कबड्डी
गाय-भैंस को देशनिकाला
दिखती है गालों की हड्डी

पढ़ना-लिखना नकल भरोसे
छेद कर रहे नाव में

खूब चढ़ रही कर्ज-उधारी
चमक रही है साहूकारी
खानापूरी में माहिर हैं
जिन्हें बैंक कहते सरकारी

फिर भी चार्वाक
की दुनिया
दिखती गांव - गिरांव में

चढ़ती जाती हैं दीवारें
अनबन की छीटें-बौछारें
हर घर में दो-चार मुकदमे
भाई ही भाई को मारें

प्रेमचंद के पंच
मगन हैं
अपने-अपने दांव में
( यह नवगीत हाल ही में हुई अपने गांव की यात्रा से उपजा है) 

--
Om Prakash Tiwari
Special Correspondent
Dainik Jagran
41, Mittal Chambers, Nariman Point,
 Mumbai- 400021

Tel : 022 30234900 /30234913/39413000
Fax : 022 30234901
M : 098696 49598
Visit my blogs :  http://gazalgoomprakash.blogspot.com/
http://janpath-kundali.blogspot.com/
--------------------------------------------------
Resi.- 07, Gypsy , Main Street ,
Hiranandani Gardens, Powai , Mumbai-76
Tel. : 022 25706646

__._,_.___

कोई टिप्पणी नहीं: