शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

बुन्देली गीत

बुन्देली गीत;
संजीव
*
आ खें सेहर गाँव पछता रओ,
नाहक मन खों चैन गँवा दओ....
*
छोर खेत-खलिहान आओ थो,
नैनों मां सपना सजाओ थो।
सेहर आओ तो छूटे अपने,
हाय राम रे! टूटे सपने।
धोखा दें खें, धोखा खा रओ....
*
दूनो काम, मजूरी आधी,
खाज-कोढ़ मां रिस्वत ब्याधी।
सुरसा कहें मूं सी मंहगाई-
खुसियाँ जैसे नार पराई।
आपने साए से कतरा रओ....
*
राह हेरती घर मां तिरिया,
रोत हटी बऊ आउत बिरिया।
कब लौं बहले बिटिया भोली?
खुद सें खुद ही आँख चुरा रओ....
***
Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: