शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

बुन्देली मुक्तिका: बात नें करियो

बुन्देली मुक्तिका:
बात नें करियो
संजीव
*
बात नें करियो तनातनी की.
चाल नें चलियो ठनाठनी की..
होस जोस मां गंवा नें दइयो
बाँह नें गहियो हनाहनी की..
जड़ जमीन मां हों बरगद सी
जी न जिंदगी बना-बनी की..
घर नें बोलियों तें मकान सें
अगर न बोली धना-धनी की..
सरहद पे दुसमन सें कहियो
रीत हमारी दना-दनी की..
================
Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: