मंगलवार, 9 जुलाई 2019

द्वि इंद्रवज्रा सवैया

स्नेहिल सलिला सवैया ​​ : १.

द्वि इंद्रवज्रा सवैया 

सम वर्ण वृत्त छंद इन्द्रवज्रा (प्रत्येक चरण ११-११ वर्ण, लक्षण "स्यादिन्द्र वज्रा यदि तौ जगौ ग:" = हर चरण में तगण तगण जगण गुरु)
SSI     SSI     ISI   SS 
तगण   तगण   जगण गुरु गुरु

विद्येव पुंसो महिमेव राज्ञः, प्रज्ञेव वैद्यस्य दयेव साधोः।
लज्जेव शूरस्य मुजेव यूनो, सम्भूषणं तस्य नृपस्य सैव॥
उदाहरण- 
०१. माँगो न माँगो भगवान देंगे, चाहो न चाहो भव तार देंगे।                                                                                                                       होगा वही जो तकदीर में है, तदबीर के भी अनुसार देंगे।।                                                                                                                     हारो न भागो नित कोशिशें हो, बाधा मिलें जो कर पार लेंगे। 
       माँगो सहारा मत भाग्य से रे!,  नौका न चाहें मँझधार लेंगे। 
०२   नाते निभाना मत भूल जाना, वादा किया है करके निभाना। 
        या तो न ख़्वाबों तुम रोज आना, या यूँ न जाना करके बहाना।                                                                                                               तोड़ा भरोसा जुमला बताया, लोगों न कोसो खुद को गिराया।
        छोड़ो तुम्हें भी हम आज भूले, यादों न आँसू हमने गिराया।    
_      ८.७.२०१९  संजीव    __________

कोई टिप्पणी नहीं: