स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 10 जून 2013

vinay: prabhu j! hamko den vardaan... sanjiv

भजन :
प्रभु जी! हमको दें वरदान
संजीव
*
प्रभु जी! हमको दें वरदान...
*
हम माटी के महज खिलौने,
प्रकृति मत के मृग-छौने.
कोशिश करें न जीवन में, नभ
छुए बिना रह जाएं बौने.
जड़ें जमा धरती वर विचरें
बनें धरा का मान...
*
हम किस्मत के बनें डिठौने,
करें न कोई काम घिनौने.
रंग भर सकें जग-जीवन में-
हों न अधूरे स्वप्न सलौने.
दॊए रहें दुर्गुण-दुःख हमसे
हों सद्गुण की खान...
*
स्वासों संग आसन के गौना,
प्यास हरे, रासों का दौना.
करे पूर्ण की प्राप्ति 'सलिल', पग
थामे नहीं पा औना-पौना.
समय-सत्य का कर पायें हम
समय-पूर्व अनुमान...
*

8 टिप्‍पणियां:

vijay3@comcast.net via ने कहा…

vijay3@comcast.net@yahoogroups.com

भजन अच्छा लगा।

विजय

kusum vir ने कहा…

Kusum Vir via yahoogroups.com

आचार्य जी,
ईश भक्ति के प्रेम भाव से पगा सुन्दर भजन l
कुसुम वीर

rohit singh ने कहा…

rohit Singh

बेहतरीन प्रार्थना

kusum sinha ने कहा…

kusum sinha

priy sanjiv jee
bahut hi sundar bhajan ke liye dher sari badhai sweekar karen

kusum sinha ने कहा…

kusum sinha

priy sanjiv jee
bahut hi sundar bhajan ke liye dher sari badhai sweekar karen

kusum sinha ने कहा…

kusum sinha

priy sanjiv jee
bahut hi sundar bhajan ke liye dher sari badhai sweekar karen

deepti gupta ने कहा…

deepti gupta via yahoogroups.com

अतिसुन्दर संजीव जी !

सादर,

deepti gupta ने कहा…

deepti gupta via yahoogroups.com

अतिसुन्दर संजीव जी !

सादर,