बुधवार, 22 मार्च 2017

dwipadi

द्विपदी
सूरज
*
सुबह उषा का पीछा करता, फिर संध्या से आँख मिला
रजनी के आँचल में छिपता, सूरज किससे करें गिला?
*

कोई टिप्पणी नहीं: