सोमवार, 20 मार्च 2017

lakshmi mantra

माँ लक्ष्मी के मंत्र

कलियुग की सबसे बड़ी जरूरत है ‘धन’ हजारों वर्षों पहले ही भागवत पुराण में यह भविष्यवाणी कर दी गई थी कि कलियुग में एक अच्छा कुल (परिवार) वही कहलाएगा, जिसके पास सबसे अधिक धन होगा। ऐसे ही परिवार का समाज में सम्मान होगा। धन जीवन की छोटी जरूरतों को पूरा करने के लिए ही नहीं, बल्कि समाज में एक सम्मानित स्थान पाने के लिए भी आवश्यक है। हर किसी के पास बेशुमार धन होना संभव नहीं। मनुष्य जीवन में सफलता दो आधार किस्मत और कर्म हैं। किस्मत में धन लिखा है तो वह व्यक्ति अवश्य धन पाएगा, साथ ही ऐसे कर्मों करेगा जिससे से उस तक पहुँच जाए। हिन्दू शास्त्रों में मनुष्य के कर्मों द्वारा उसकी मनोकामना पूर्ति वर्णित है।ऐसे कई शास्त्रीय उपाय हैं जिन्हें करने से मनुष्य अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने में सक्षम होता है। ये शास्त्रीय उपाय मंत्र जाप, दान-पुण्य आदि हैं। धनवान बनने हेतु जातक की राशि के अनुसार धन की देवी लक्ष्मी के मंत्र का जाप करें। इससे जातक के ऊपर धन की वर्षा होकर जीवन से दरिद्रता दूर होती है और वह सुखी बनता है। लक्ष्मी का आशीर्वाद जीवन में धन और खुशहाली दोनों लाते हैं।

मेष राशि के जातक मंगल ग्रह से प्रभावित होते हैं, इनमें कम साधनों में गुजारा करने का गुण नहीं होता। ये हमेशा जीवन से अधिक की अपेक्षा लगाए रहते हैं। मेष राशि के जातक को धन प्राप्ति के लिए माँ लक्ष्मी के ‘श्रीं’ मंत्र का जाप १०००८ बार करना चाहिए।  

वृषभ जाति के जातक ‘परिवार एवं जीवन के प्रति संवेदनशील भाव रखने वाले होते हैं । ये  “ॐ सर्वबाधा विर्निमुक्तो धन-धान्यसुतान्वित:। मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:।।“ इस मंत्र का नित्य एक माला जाप करें।

मिथुन राशि के जातक दोहरे व्यक्तित्ववाले लेकिन अपने कार्य के प्रति मेहनती होते हैं । यदि ये ठान लें तो नामुमकिन को मुमकिन बना सकते हैं। इनके लिए लक्ष्मी मंत्र – “ॐ श्रीं श्रीये नम:” इस मंत्र का प्रतिदिन एक माला जाप करें।

 कर्क राशि के जातक परिवार के प्रति प्रेम और उनकी हर जरूरत का ख्याल रखना अपनी जिम्मेदारी समझते हैं। लक्ष्मी मंत्र – “ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ॥“ इस मंत्र का प्रतिदिन एक माला जाप करें।

सिंह राशि के जातक समाज में सम्मान पाने और धन के प्रति बेहद आकर्षित होते हैं। इनके लिए लक्ष्मी मंत्र इस प्रकार है – “ॐ श्रीं महालक्ष्म्यै नम:” इस मंत्र का प्रतिदिन एक माला जाप करें।

कन्या राशि के जातक बेहद समझदार और सभी लोगों को साथ लेकर चलने वाले होते हैं । जीवन के पर्ति इनकी बेहद सरल सोच होती है, लेकिन फिर भी बाकी लोगों से अलग। लक्ष्मी मंत्र – “ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं महालक्ष्मी नम:” इस मंत्र का प्रतिदिन सुबह कम से कम एक माला जाप करें।

जीवन के प्रति तुलानात्मक सोच रखने वाले, समझदार और सुलझे हुए लोग होते हैं तुला राशि के जातक। लक्ष्मी मंत्र – “ॐ श्रीं श्रीय नम:” तुला राशि के जातक इस लक्ष्मी मंत्र का प्रतिदिन एक माला या इससे अधिक जाप भी कर सकते हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वृश्चिक राशि के जातक जीवन के शुरुआती पड़ाव में कई परेशानियां झेलते हैं, लेकिन 28 की उम्र पार करने के बाद उनकी आर्थिक स्थिति अपने आप सुधरने लगती है। किंतु इसे और बेहतर बनाने के लिए इस लक्ष्मी मंत्र का उपयोग करें – ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभयो नम:”

मेहनती और समझदार होते हैं मकर राशि के जातक। ये लोग कभी भी जीवन में जल्दबाजी में काम नहीं करते। हर काम को सोच-विचार कर करते हैं। लक्ष्मी मंत्र – “ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं सौं ॐ ह्रीं क ए ई ल ह्रीं ह स क ह ल ह्रीं सकल ह्रीं सौं ऐं क्लीं ह्रीं श्री ॐ॥“ इस मंत्र का प्रतिदिन कम से कम एक माला जाप करें।

कुंभ राशि का स्वामी शनि है, शनि कर्मानुसार फल देने वाला ग्रह है इसलिए इस राशि के जातक अपने अच्छे कर्मों पर अच्छा और बुरे कर्मों पर जल्द से जल्द बुरा फल पाते हैं। लक्ष्मी मंत्र – “ऐं ह्रीं श्रीं अष्टलक्ष्मीयै ह्रीं सिद्धये मम गृहे आगच्छागच्छ नमः स्वाहा।“ इस मंत्र का प्रतिदिन एक माला जाप करने से देवी प्रसन्न होंगी।

मीन राशि का स्वामी ग्रह है देवगुरु बृहस्पति, जो कि स्वयं धन-धान्य दिलाने वाले हैं। इनके लिए लक्ष्मी मंत्र इस प्रकार है - “ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महालक्ष्म्यै नम:” नित्य दो माला जाप करने से फल की प्राप्ति होगी।


कोई टिप्पणी नहीं: