रविवार, 25 फ़रवरी 2018

dr. rohitashva asthana

लेख:
हिंदी ग़ज़ल के शलाका पुरुष डॉ. रोहिताश्व अस्थाना 
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
*
डॉ. रोहिताश्व अस्थाना के लिए इमेज परिणामविश्व वाणी हिंदी ने सुरवाणी संस्कृत से शब्द-भण्डार, व्याकरण और पिंगल ग्रहण कर उसे अपने रंग में ढाल लिया है। फलत:, हिंदी को छंदों का विराट कोष मिल गया है। संस्कृत के अनुष्टुप छंदों में कम-अधिक ध्वनि-खण्डों के श्लोकों को सस्वर पढ़ने की जो वादिक परंपरा है वैसी विश्व की किसी अन्य भाषा में नहीं है। द्विपदिक श्लोकों में लघु-गुरु उच्चार के आधार को सामान वर्ण के तुकांत में परिवर्तित कर गीति-काव्य की जिस विधा ने लोकप्रियता पाई उसे फारसी में ग़ज़ल कहा गया। संस्कृत के छंदों को उच्चार के अनुसार फारसी शब्द-ध्वनियों में ढालकर रुक्न और बह्र का विकास हुआ। कहते हैं इतिहास खुद को दोहराता है। देश के पराभव काल में आक्रान्ता मुग़ल सैनिकों और पराजित भारतीय सैनिकों, श्रमिकों, किसानों के मध्य बात-चीत से क्रमश: लश्करी (सैन्य शिविर में बोले जाने वाली भाषा), रेख्ता ( फारसी प्रधान मिश्रित भाषा) और उर्दू (छावनी में बोली जानेवाली भारतीय शब्द प्रधान भाषा) का विकास हुआ। मुग़ल सत्ता का प्रिय बनने के लिए उनकी भाषा सीखने का दौर आया तो फ़ारसी की अन्य काव्य विधाओं की तुलना में सरल होने के कारण ग़ज़ल का भारतीयकरण हुआ किंतु उर्दू विद्वानों ने इसे पसंद नहीं किया। ग़ालिब ग़ज़ल को 'कोल्हू का बैल' और 'तंग गली' जैसे विशेषणों से नवाज़ते रहे। विधि कि विडम्बना यह कि ग़ालिब ने जो गज़लें हलके-फुल्के मनोरंजन के लिए लिखीं उनसे वे जाने जा रहे हैं जबकि उनके द्वारा किये गए गंभीर कार्य की चर्चा नहीं होती।  

भारतीय ग़ज़ल अरबी-फारसी के प्रभाव से धीरे-धीरे मुक्त होकर उर्दू ग़ज़ल के रूप में विकसित हुई जिसका विधान (रुक्न, बह्र, काफिया-रदीफ़ आदि संबंधी नियम और शब्दावली) आज भी मूल से प्रेरित है। स्वतंत्रता के आन्दोलन में हिंदी द्वारा निभाई गयी भूमिका ने उसे देश की सर्वाधिक लोकप्रिय भाषा बना दिया। फलत: साहित्य की अन्य विधाओं की तरह ग़ज़ल ने भी हिंदी को आत्मसात कर लिया। हिंदी ग़ज़ल को हाशिए से पुख्य पृष्ठ पर लाने में  महती भूमिका निभानेवाले डॉ. रोहिताश्व अस्थाना समर्पण की अद्भुत मिसाल हैं। १ दिसंबर १९४९ को अटवाअली मरदानपुर जिला हरदोई उ. पर. में जन्में रोहिताश्व जी ने एम. ए. हिंदी, बी. एड. करने के पश्चात्अवध की सरजमीं पर लखनऊ के समीप हरदोई जैसे कसबे में रहते हुए भी बाल साहित्य के साथ-साथ हिंदी ग़ज़ल में महत्वपूर्ण रचनाओं का प्रणयन तथा शोध परक कार्य किया। उनके शोधकार्य 'हिंदी ग़ज़ल: उद्भव और विकास' १९८५ में पूर्ण तथा १९८७ में सुनील साहित्य सदन, दरियागंज नई दिल्ली द्वारा प्रकाशित हुआ। 

शोध ग्रन्थ के प्रथम अध्याय में काव्य में ग़ज़ल के स्थान, ग़ज़ल की व्युत्पत्ति, परिभाषा, व्यापकता, प्रकृति, स्वरूप, प्रेमाभिव्यक्ति, तीवारानुभुती, संप्रेशानीयता, मैद्रिगाल तथा सोंनेट छंदों से सामीप्य, नव नामकरण आदि बिन्दुओं पर बिना किसी पूरवाग्रह के विचार किया गया है। अध्याय २ में हिंदी ग़ज़ल की पृष्ठ भूमि में उर्दू-फारसी ग़ज़लों की बुनावट, भाषा, शिल्प-विधान, संक्षिप्त इतिहास, अन्य काव्य शैलियों से अंतर आदि महत्वपूर्ण विषयों पर सुस्पष्ट जानकारी हैं। तृतीय अध्याय में हिंदी में ग़ज़ल विधा के औचित्य, उर्दू ग़ज़ल के प्रभाव, हिंदी ग़ज़ल के जन्मदाताओं (खुसरो, कबीर) व काल का निर्धारण जैसे प्रसंगों पर प्रमाणिक जानकारी उपलब्ध कराई की गई है। चौथे अध्याय में हिंदी ग़ज़ल के वर्ण्य विषय, हिंदी ग़ज़ल में जीवन-दर्शन, विकास-यात्रा तथा काल विभाजन जैसे महत्वपूर्ण बिंदु समाहित हैं। पाँचवे अध्याय में आलोचना के निकष पर हिंदी ग़ज़लकारों डॉ. बशीर बद्र, अमीक हनफी, बेकल उत्साही, शमशेर बहादुर सिंह,  दुष्यंत कुमार, सूर्यभानु गुप्त, चंद्रसेन विराट, शेरजंग गर्ग, रामावतार त्यागी, बालस्वरूप रही, रूद्र काशिकेय, आदि के ग़ज़ल साहित्य का सम्यक-समीचीन विश्लेषण करने के साथ उस समय हिंदी ग़ज़ल के नव हस्ताक्षरों अजय प्रसून, अंजना संधीर, अवधनारायण मुद्गल, डॉ. उर्मिलेश, ओंकार गुलशन, केदारनाथ कोमल, डॉ, गिरिराजशरण अग्रवाल, ज़हीर कुरैशी, तारादत्त निर्विरोध, धंनजय सिंह, डॉ. नरेंद्र वशिष्ठ, डॉ. नरेश, पुरषोत्तम मिश्र मधुप, नीर शबनम, बालकृष्ण गर्ग,  माहेश्वर तिवारी, योगेन्द्र दत्त शर्मा, रऊफ परवेज़, रमेश राज, राजकुमारी रश्मि, राजेश मेहरोत्रा, रामकुमार कृषक, रामगोपाल परदेशी, रामबहादुर सिंह भदौरिया, रामावतार चेतन, प्रो. राम स्वरुप सिन्दूर, रोहिराश्व अस्थाना, विकल सामंती, विजयकिशोर मानव, प्रो विद्यासागर वर्मा, शिव ॐ अम्बर, श्याम बेबस, सरोजिनी अग्रवाल, रामसिंह शलभ, ज्ञानवती सक्सेना आदि के अवदान का उल्लेख किया है। यह अस्थाना जी के औदार्य और दूरदृष्टि का प्रमाण है कि इनमें से अनेक हस्ताक्षर अब तक हिंदी ग़ज़ल के विकास हेती सक्रिय हैं। छठवा अध्याय हिंदी ग़ज़ल के शिल्प-विधान, तथा उर्दू-फारसी ग़ज़ल से साम्य और वैषम्य (भाषा, छंद, अलंकार, रस-परिपाक, काव्य-दोष, तुलनात्मक अध्ययन) से समृद्ध है।  सातवें अध्याय में हिंदी ग़ज़ल की संभावनाएं व भविष्य, उन्नयन में पात्र-अत्रिकाओं क योगदान का उल्लेख है। परिशिष्ट के अंतर्गत हिंदी चलचित्रों में ग़ज़ल, तथा सन्दर्भ ग्रंथों का समावेशन है। सारत: यह शोध ग्रन्थ औपचारिकता का निर्वहन न होकर गहन अध्ययन,  गवेषणापूर्ण तुलनात्मक मनन-चिंतन से प्राप्त निष्कर्षों से समृद्ध है। हिंदी ग़ज़ल के नए हस्ताक्षर यदि इस ग्रन्थ का अध्ययन करने के बाद कलम चलायें तो न केवल उनके लेखन का स्तर उन्नत होगा अपितु दोषमुक्त भी होगा।   

डॉ.रोहिताश्व अस्थाना जी महाविद्यालयीन शिक्षण कार्य के सम्नातर सतत साहित्य सृजन करते रहे हैं। उनके शताधिक शोध परक लेख उस समय की प्रतिनिधि पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे हैं। उनकी प्रकाशित पुस्तकें बाँसुरी विस्मित है (हिंदी ग़ज़ल संग्रह), जलतरण बजते हैं (प्रणयगीत), माटी की गंध तथा चाँदी की चूड़ियाँ उपन्यास तथा जय इंदिरा खंडकाव्य हैं। रोहिताश्व जी ने अपने लेखन पर नवोदितों के मार्गदर्शन को वरीयता दी। नई पीढ़ी को हिंदी ग़ज़ल ही नहीं हिंदी भाषा और साहित्य के उन्नयन के प्रति प्रेरित करने में आपका सानी नहीं है। चार दशकों तक हरदोई का नाम डॉ. अस्थाना के महत्वपूर्ण अवदान एक कारण समूचे साहित्य जगत में समादृत होता रहा। हिंदी ग़ज़ल पर सर्व प्रथम शोध करने के अतिरिक्त हिंदी ग़ज़लकारों की नई पीढ़ी तैयार करने के उद्देश्य से उनहोंने हिंदी ग़ज़ल पंचदशी के पाँच भाग सम्पादित प्रकाशित किए। इस श्रृंखला के अंतर्गत १९९७ में भाग १ में आसी पुरनावी, उषा यादव, डॉ. जयश्री शर्मा, जितेन्द्र धीर, डॉ, दयाशंकर शुक्ल 'सजग', दिनेश शुक्ल, डॉ. महाश्वेता चतुर्वेदी, डॉ. योग्रन्द्र नक्षी, डॉ. रविन्द्र उपाध्याय, डॉ. राकेश सक्सेना, डॉ, रामसनेही लाल शर्मा, वीरेंद्र हमदम, शिवकुमार पराग, सागर मीरजापुरी तथा सूर्यदेव पाठक 'पराग' जोसे हस्ताक्षर है। इनमें से सागर मीराजुरी ने बाद में गज़लपुर, नव गज़लपुर, तथा गीतिकायनम नाम से हिंदी ग़ज़ल पर तीन शोधपरक ग्रन्थ प्रकाशित किए हैं।  वर्ष १९९ में प्रकाशित भाग २ में अकिलेश श्रीवास्तव 'चमन;, डॉ. अजरा खान 'नूर', डॉ. अपर्णा चतुर्वेदी 'प्रीता', डॉ. आदर्श मिश्र, उमाशंकर शुक्ल 'आलोक', डॉ. ऋषिपाल धीमान 'ऋषि', कपिलदेव कल्याणी, डॉ. कमर खां 'वहम', कमल प्रसाद 'कमल', चंद्रपाल शर्मा 'शीलेश', डॉ. रेनू चन्द्र, शिवनंदन सिंह, डॉ. श्याम सनेही लाल शर्मा, श्रीपति विषपायी तथा सूरज 'मृदुल' हैं। इस कड़ी का भाग ३ वर्ष २००० में अब्बास खान 'संगदिल', डॉ. अशोक गुलशन, उपेन्द्र प्रसाद सिंह, डॉ. ओमप्रकाश सिंह, डॉ. कमलेश शर्मा, डॉ. गणेश दत्त सारस्वत, डॉ. टेकचंद गुलाटी, बद्री विशाल तिवारी, मयंक अवस्थी, रमेश माहेश्वरी, रवीन्द्र प्रभात, राजेंद्र कुमार, राजेश मिश्र 'सूरज', विनोद उइके' दीप' तथा शशि जोशी हैं। भाग चार वर्ष २००१ में आया जिसमें अशोक गीते (बाद में ज्ञानपीठ पुरस्कृत), आचार्य भगवत दुबे, आनंद सिंह आनंद, गोपीनाथ कालभोर, दिलीप सिंह 'दीपक', पवन शर्मा, पूर्णेंदु कुमार सिंह, बृजकिशोर पटेल, मनमोहन शील, राजा चौरसिया, रामशंकर मिश्र 'पंकज;, शिव उदयभान सिंह चंदेल 'सार्थ', डॉ. शंकर मोहन झा, डॉ. सुनील अग्रवाल तथा सुभाष चंद्र वर्मा 'सुभाष' हैं। इस क्रम के अंतिम पाँचवे भाग २००३ में डॉ. दिनेश यादव, भानुमित्र, डॉ. ममता आशुतोष शर्मा, डॉ. राजकुमारी शर्मा 'राज', राजनारायण चौधरी, रामसनेही कनौजिया 'स्नेही', रंजना श्रीवास्तव 'रंजू', लक्ष्मी खन्ना 'सुमन', लक्ष्मी नारायण शर्मा 'साधक', डॉ. सादिका नवाब 'सहर', डॉ. साधना शुक्ल, सुरेशचन्द्र वर्मा 'मधुप', डॉ. सूर्यप्रकाश अष्ठाना 'सूरज', सोहन लाल 'सुबुद्ध' तथा ज्ञानेंद्र मोहन 'ज्ञान' सम्मिलित हुए। इन संकलनों के महत्त्व का अनुमान पद्म श्री नीरज द्वारा आशीष वचन दिए जाने तथा क्रमश: डॉ कुंवर बेचैन, माधव मधुकर, डॉ. उर्मिलेश, डॉ. अनंतराम मिश्र 'अनंत' व डॉ. शिव ॐ 'अम्बर' द्वारा विस्तृत भूमिकाएं लिखे जाने व देश के जाने-माने साहित्यिक हस्ताक्षरों डॉ. रामप्रसाद मिश्र, चंद्रसेन विराट, डॉ. उर्मिलेश, कृष्णानंद चौबे, अशोक अंजुम, मधुकर गौड़, शशि जोशी, ज़हीर कुरेशी, जानकी वल्लभ शास्त्री, डॉ. तारादत्त निर्विरोध, डॉ. महर्न्द्र कुमार अग्रवाल, डॉ. आकुल, डॉ. गिरिजा शंकर त्रिवेदी, डॉ. जगदीश प्रसाद श्रीवास्तव, जीवन मेहता, डॉ. यतीन्द्र तिवारी, डॉ. वर्डप्रकाश अमिताभ, शिव ॐ अम्बर, सुरेन्द्र चतुर्वेदी, कमलेश्वर, पद्मश्री चिरंजीत, सुरेश नीरव, सुलेखा पाण्डेय, दीक्षित दिन्कौरी व रसूल अहमद सागर  द्वारा प्रेषित समीक्षाओं व प्रतिक्रियाओं से जाना जा सकता है।

वर्ष २००७-०८ में पुनः 'हिंदी ग़ज़ल के कुशल चितेरे भाग १ में डॉ. अस्थाना ने २२ हिंदी ग़ज़लकारों डॉ. अजय जन्मेजय, उपेन्द्र प्रसाद सिंह, उषा यादव 'उषा', कपिल देव कल्याणी, गोपाल कृष्णा सक्सेना 'पंकज', दिनेश कुमार मिश्र 'स्नेही', डॉ. मधु भारतीय, मधुकर शैदाई, मधुकर अष्ठाना, डॉ. योगेन्द्र बक्शी, रमेश चंद्र श्रीवास्तव, रमेश माहेश्वरी, राजेंद्र व्यथित, लक्ष्मीनारण शर्मा 'साधक', विज्ञानव्रत, वीरेंद्र मृदु, वीरेन्द्र हमदम, डॉ. शंकर मोहन झा, डॉ. स्वदेश कुमार भटनागर, सागर मीरजापुरी, डॉ. सादिक नवाब 'सहर तथा सूर्यदेव पाठक 'पराग' की प्रतिनिधि रचनाओं का संकलन सम्पादित-प्रकाशित किया। वर्ष २०१६ में डॉ. अस्थाना ने डॉ. घमंडीलाल अग्रवाल के सहयोग से ७१ सरस्वती वन्दनाओं का संकलन सम्पादित-प्रकाशित किया जसमें देश के कोने-कोने से श्रेष्ठ कवियों की रचनाएँ हैं। वर्ष २०१७ में पुन: हिंदी ग़ज़लों का संग्रहणीय संकलन 'चुनी हुई हिंदी गज़लें' शीर्षक से डॉ. अस्थाना के संपादन में प्रकाशित हुआ. इसमें ४० रचनाकारों की प्रतिनिधि हिंदी गज़लें सम्मिलित हैं। इस महत्वपूर्ण कृति में भूमिका आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' व चंद्रसेन विराट द्वारा लिखी गयी है। डॉ. रोहिताश्व अस्थाना के बाल साहित्य पर अगर के डॉ. शेषपाल सिंह 'शेष; द्वारा शोध कार्य किया जा चुका है किंतु हिंदी ग़ज़ल के क्षेत्र में किये गए कालजयी अवदान पर शोध किया जाना शेष है। 

डॉ. अस्थाना को वर्ष १९८४ में महीयसी महादेवी वर्मा द्वारा  पुरस्कृत किया गया। वे उ.प्र. हिन्दी संस्थान, लखनऊ द्वारा ‘बाल साहित्य भारती’ सम्मान से अलंकृत किए गए। उन्हें दर्जनों अन्य पुरस्कार एवं सम्मान समय-समय पर प्राप्त होते रहे हैं।  ऐकान्तिका, निकट बावन चुंगी चौराहा, हरदोई-241001 (उ.प्र.) मोबाइल: 07607983984 में वार्धक्य तथा रोगों से जीर्ण-शीर्ण हो चुके शरीर तथा दोनों पुत्रों के अन्यत्र पदस्थ होने से उपजे एकाकीपन से जूझते-लड़ते डॉ, रोहिताश्व अस्थाना का घर साहित्य के मंदिर की तरह है। उनके पास महत्वपूर्ण पुस्तकों का महत संकलन है। उनकी चिंता पुस्तकों को किसी ऐसे स्थान पर पहुँचाने की है जहाँ शोध छात्र इनका उपयोग कर सकें। डॉ. रोहिताश्व अस्थाना हिंदी ग़ज़लों तथा हिंदी बाल साहित्य के ऐसे हस्ताक्षर हैं जिन्हें प्रदेश और राष्ट्रीय सरकारों द्वारा उनके महत्वपूर्ण अवदान को देखते हुए सम्मानित-पुरस्कृत किया जाना चाहिए। लखनऊ विश्ववद्यालय को उनके ऊपर अधिक से अधिक शोध कार्य करे जाने जाना चाहिए। हिन्दी ग़ज़ल को वर्तमान  मुकाम पर पहुँचाने वाले हस्ताक्षरों में डॉ. रोहिताश्व अस्थाना का स्थान  अनन्य है। वे शतायु हों और हिंदी के सारस्वत कोष की श्रीवृद्धि करते रहें।     
======================
संपर्क: विश्व वाणी हिंदी संस्थान, ४०१ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१, 
salil.sanjiv@gmailcom, ७९९९५५९६१८ / ९४२५१८३२४४, www.divyanarmada.in  

कोई टिप्पणी नहीं: