सोमवार, 4 नवंबर 2019

विश्व वाणी हिंदी संस्थान जबलपुर

 ॐ शब्द ब्रहमाय नम:
विश्व वाणी हिंदी संस्थान जबलपुर
समन्वय प्रकाशन-अभियान
*
जन्म ब्याह राखी तिलक, गृह प्रवेश त्यौहार।
सलिल बचा; पौधे लगा, दें पुस्तक उपहार।।
*
संस्थान की मासिक बैठक केंद्रीय कार्यालय में संपन्न हुई। आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' ने संस्थान की गतिविधियों पर संतोष व्यक्त करते हुए विविध सारस्वत अनुष्ठानों की जानकारी दी।
१. 'वीणापाणी वंदना' - वेद-पुराणों में सरस्वती जी के उद्भव, पूजनादि से संबंधित जानकारी, त्रिदेवियों की अवधारणा, ३२ भाषाओँ-बोलिओं में सरस्वती वंदनाएँ, देश-विदेश में सरस्वती मंदिरों के चित्रादि सहेजने, तथा १५० रचनाकारों की २०० से अधिक सरस्वती वंदनाएँ प्राप्त होने से अवगत कराया। यह संग्रहणीय ग्रंथ बिना कोइ अग्रिम निधि लिए प्रकाशित किया जा रहा है। प्रकाशन के पश्चात् सहभागियों को रियायती दर पर बिना डाक व्यय के तथा अन्य पाठकों को डाक व्यय निशुल्क उपलब्ध कराया जायेगा।
२. दोहा शतक मंजूषा - पूर्व प्रकाशित ३ भागों "दोहा-दोहा नर्मदा", दोहा सलिला निर्मला" तथा "दोहा दीप्त दिनेश" की सफलता के पश्चात् दोहा शतक मंजूषा ४ "दोहा है आशा-किरण" हेतु १० दोहाकारों के दोहे सम्पादन हेतु प्राप्त होने व् मात्र ५ स्थान शेष रहने की सूचना दी। दोहे स्वीकृत होने के पश्चात् सहभागिता निधि ३०००/ जमा करनी होगी। हर सहभागी को ११ प्रतियाँ बिना डाक व्यय भेजी जाएँगी। सहभागी पूर्व प्रकाशित ३ भाग (८००/-) रियायती दर पर ५००/- में प्राप्त कर सकेंगे।
३. "प्रीत के गीत" - श्रृंगार गीतों के इस संकलन हेतु २ श्रृंगार गीत, ११००/- सहभागिता निधि, चित्र, व परिचय आमंत्रित है। सहभागियों को संकलन की २ प्रतियों निशुल्क तथा अतिरिक्त प्रतियाँ रियायती दर पर बिना डाक व्यय मिलेंगी। श्री बसंत शर्मा व् श्री विनोद जैन 'वाग्वर' संपादन सहयोगी होंगे।
४. "सार्थक लघुकथाएँ" - इस संकलन हेतु ५ लघुकथाएँ (शब्द सीमा २५०), ६००/- सहभागिता निधि, चित्र, व परिचय आमंत्रित है। सहभागियों को संकलन की २ प्रतियाँ निशुल्क तथा अतिरिक्त प्रतियाँ रियायती दर पर बिना डाक व्यय मिलेंगी।
५. अभियान वाट्स ऐप समूह - समूह की गतिविधियों पर चर्चा में सदस्यों ने रचनाओं के स्तर पर संतोष व्यक्त किया। विषय बद्ध रचना प्रक्रिय के प्रति गंभीर होने की आवश्यकता अनुभव की गयी। पटल पर रचनाओं की संख्या वृद्धि तथा त्रुटि-सुधर की आवश्यकता अनुभव की गयी।
६. नवगीत महोत्सव लखनऊ, ९-१० नवंबर - श्री बसंत शर्मा द्वारा अपरिहार्य कारणों से असमर्थता व्यक्त करने पर श्री सलिल तथा श्री जयप्रकाश श्रीवास्तव द्वारा सहभागिता करने का निर्णय लिया गया।
७. टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य-कला महोत्सव भोपाल - संस्थान की ओर से श्री सुरेश कुशवाहा 'तन्मय' तथा श्री-श्रीमती भट्ट सहभागिता करेंगे।
८. युवा उत्कर्ष साहित्य मंडल दिल्ली - श्री बसंत शर्मा संस्थान का प्रतिनिधित्व करेंगे।
९. उपस्थित सदस्यों ने नवीन रचनाओं का पथ किया जिन पर विमर्श कर संशोधन सुझाए गए।
१०. आगामी बैठक तय करने हेतु मुख्यालय सचिव श्रीमती छाया सक्सेना को अधिकृत किया गया।
====================== 

कोई टिप्पणी नहीं: